Monday, March 30, 2015

थिएटर एक्सर्साइज़ ( Theatre Exercise) : Mime and movement - 1

ये गतिविधियां शारीरिक अभिव्यक्ति का विकास करती हैं। अपने शरीर के द्वारा अपने सम्प्रेषण को प्रभावी बनाना इसका प्रमुख उद्देश्य है। यह अभिनेता में विभिन्न गतियों का विकास करती हैं जो किसी अभिनेता के लिए बहुत जरूरी होती हैं।  
1.   हाथ का अनुसरण
जोड़े में से एक व्यक्ति A अपनी हथेली को सामने वाले B के चेहरे से कुछ इंच दूरी पर रखेगा। अब वह अपने हाथ को धीरे-धीरे घुमाएगा। B अपने शरीर को उसी के अनुसार घूमते हुए अपने चेहरे को को समान दूरी पर बनाए रखे। कुछ समय के बाद आपस मे बदल कर करें । तीन के साथ भी कर सकते हैं जिसमे बारी-बारी से लीड कर सकते हैं।
2.   नाक का अनुसरण
यह पूरे समूह के लिए एक मूवमेंट एक्सर्साइज है। पूरे हॉल में घूमें, स्पेस का इस्तेमाल करें, गति को बदलते हुए, दूसरों को छूने से बचते हुए। अब अपने नाक पर ध्यान दें। आप चलने में नाक का अनुसरण कर रहे है। जहां नाक ले जा रही है वहीं आप जा रहे हैं। शरीर के अन्य अंगों पर फोकस करते हुए इस गतिविधि को आगे बढ़ाएँ। यह गतिविधि डांस और फ़िजिकल थियेटर के लिए बहुत उपयोगी है। विभिन्न चरित्रों के अनुसार उनकी गति के आइडिया कैसे लेने हैं। इसमे यह गतिविधि मदद करती है। अब कोशिश करें पेट, पैर की चिटकी उंगली, घुटना और पीठ इत्यादि का अनुसरण करें
दलीप वैरागी 
9928986983 
(कृपया अपनी टिप्पणी अवश्य दें। यदि यह लेख आपको पसंद आया हो तो शेयर ज़रूर करें इससे हिन्दी ब्लोगिंग, नाट्यकला व मेरे लेखन को प्रोत्साहन मिलेगा। )

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...