Friday, February 22, 2013

“बातचीत” न्यूज़लेटर : टीएलएम की पुनर्व्याख्या

यह लेख पूर्व में संधान व सेव द चिलड्रन द्वारा प्रकाशित Exploring Possibilities, Good Practices from KGBVs में Newsletter- “Baatcheet”: Reinterpreting Teaching Learning Material शीर्षक से प्रकाशित हुआ है।

clip_image002पलक झपकते सीन बदलते हमने सिनेमा में जरूर देखें हैं या फिर नाटक में भी, अभिनेता पर्दा खींचकर या क्षण भर को लाइट बुझा बड़ी कुशलता से दृश्य बदलते हैं। सीन ज़िंदगी में भी बदलते हैं। कभी–कभी मौसम जैसे आहिस्ता – आहिस्ता और कभी नाटक की तरह कि यकीन ही न हो। कुछ दृश्य कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों[1] में भी यकीनन बदलें हैं। चलो पहले हम केजीबीवी में एक वर्तमान की तस्वीर देखते हैं। बाद में फिर इस सीन के फ्लैश बैक में जाकर देखेंगे कि यह नाटक की तरह खट से बदला है या मौसम की तरह जिसका कि बदलना अवश्यंभावी होता है।
 
दृश्य – 1, समय - जुलाई 2012, स्थान – कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय
जैसे ही हमारी दृष्टि केजीवीवी पर ठहरती है दृश्य में है कस्तूरबा विद्यालय की लड़कियां जो छोटे-छोटे समूहों में काम कर रही हैं। तल्लीनता है, आनंदमाय माहौल है। सीन को थोड़ा और ज़ूम करके देखते हैं। लड़कियों के हाथों में केजीबीवी न्यूज़लेटर “बातचीत” है। वे उसको पढ़ रही हैं और उस पर आपस में बातचीत भी कर रही हैं। कुछ के हाथ में खुद के केजीबीवी का व कुछ के हाथ में दूसरे केजीबीवी का ”बातचीत” है। कैमरा को थोड़ा और फोकस करते हैं अब लड़कियों द्वारा लिखी इबारतें साफ दीख पड़ती हैं।
सातवी कक्षा की तारा लिखती है –
“यहाँ मैं ‘नव्या’ व ‘झांसी की रानी’ सीरियल रोज देखती हूँ। दोनों मुझे बहुत पसंद हैं। घर पर इन्हें नहीं देख पाऊँगी। घर पे तो डिश एंटीना नहीं है। यहाँ की बहुत याद आएगी।”
मुझे ‘प्रतिज्ञा’ अच्छी लगती है ... वह पढ़ी लिखी है ... वह ईमानदार है वह हमेशा कानून के हिसाब से चलती है।
चंदा डूड़ी कक्षा VIII
ये दोनों लड़कियां टीवी पे देखे गए नाटकों पर अपनी लेखनी के मध्यान से राय रख रही हैं।
चलो अब आगे के पृष्ठों को पलटते हुए देखते हैं ...
इसमे बात राय रखने से आगे बढ़ती दिखती है –
धन्नी जाट – “मैं आठवी में हूँ। मेरा एक भाई और पाँच बहने हैं... मेरा भाई एक ऐसे स्कूल में पढ़ता है जहां चालीस हज़ार रुपये साल की फीस लगती है... मेरा एडमिशन मम्मी-पापा ने केजीबीवी में करवाया... स्कूल अलग-अलग क्यों? ”
शोभा - “मैं तब पाँचवी में थी... एक लड़के ने मुझसे झगड़ा किया और मेरा हाथ पकड़ा तो मैंने उसके हाथ पर काट लिया। ... शिकायत होने पर सर ने हमें डांटा। गलती उस लड़के की थी लेकिन मुझे कहा कि लड़कियों को लड़कों से झगड़ा नहीं करना चाहिए।”
यहाँ लड़कियां अभिव्यक्ति को नया आयाम दे रही हैं और सहज मिले माध्यम का प्रयोग करते हुए अपने साथ जाने अंजाने में हुए भेदभाव पर संजीदगी से सवाल भी उठा रही हैं।
अब आँखों के कैमरे को थोड़ा पैन करते हैं। अब सब लड़कियां दृश्य में आती जा रही हैं। लड़कियां लिखे हुए को पढ़ रही हैं, लड़कियां चर्चा कर रही हैं। लड़कियां दिख रही है, पढ़ने वाली भी और किताब के अंदर से लिखने वाली भी अभिव्यक्ति से मुखर, आत्मविश्वास से लबरेज़।
सविता रावत कक्षा VIII लिखती है।
“मुझे अब कस्तूरबा आवासीय विद्यालय में बहुत अच्छा लगता है। यहाँ आने के बाद खूब पढ़ाई करने लगी हूँ। मुझे मैडम ने स्टोर से समान निकालने की ज़िम्मेदारी दे रखी है। मुझे पता है कि सौ लड़कियों के लिए कितना समान चाहिए। रसोइये को सामान देकर रजिस्टर में दर्ज़ करती हूँ। कभी सोच भी नहीं सकती थी कि स्टोर का काम संभाल सकूँगी... सातवीं कक्षा में मैंने सिलाई सीखी थी, इस बार ब्यूटीपार्लर की पढ़ाई कर रही हूँ। मैं पास होऊँगी मुझे पूरा विश्वास है।”
इस तरह के उदाहरण एक दो नहीं जिनके पास कहने को बहुत कुछ है और शब्द भी, तरीके भी। ललिता कुमावत भी इसी तरह खुद को अभिव्यक्त कर रही हैं।
“मैं जब आई थी तब पढ़ना नहीं जानती थी। पढ़ना अब मुझे आ गया है। इसके अलावा कबड्डी खेलना, डांस करना, नाटक करना अच्छा लगता है। कोई भी छोटा काम हो मैं खुद ही कर लेती हूँ। मिस्त्री आता है तो पैसे लेता है। एक बार मिस्त्री ने वाटर कूलर ठीक किया मैंने भी देख कर सीख लिया। दूसरी बार खुद ही ठीक कर लिया। टीवी की पिन टूट जाती है, डीवीडी मे गलत पिन लगे या इनवर्टर में खराबी सब मिस्टेक ठीक कर देती हूँ। यहाँ आने के बाद अपनी जिम्मेदारियाँ निभाने लगी हूँ।”
।। सीन कट ।।
यह दृश्य थोड़ा लंबा खींच गया। यह वर्तमान है। हर वर्तमान के साथ उससे पल्लू छुड़ाता, भविष्य के रथ के गर्दोगुबार में ओझल होता एक अतीत होता है। चलो इसके फ्लैश बैक मे थोड़ा झाँकते हैं।
दृश्य – 2, समय - अक्टूबर 2011, स्थान - कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय
यह अजमेर ज़िले के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में बेसलाइन का दृश्य है। लड़कियां कक्षा में कतारबद्ध बैठी हैं। उनके हाथ में एक वर्कशीट है। वर्क शीट पर निम्न लिखित अनुच्छेद दिया गया है।
नगमा और उसका भाई अमन एक दिन बाज़ार गए। वहाँ अमन ने देखा कि एक खोमचे वाला पकौड़े बना रहा है। उसका मन पकौड़े खाने के लिए ललचाया। नगमा ने कहा कि पकौड़े तीखे होंगे। मगर अमन नहीं माना। अमन ने पकौड़े खाए और उसकी आँखों से आँसू निकालने लगे।
इस अनुच्छेद को पढ़ कर लड़कियों को कुछ सवालों के जवाब देने थे ताकि उनके शैक्षणिक स्तर का जायजा लिया जा सके। इन सवालों में एक सवाल यह भी है।
तुम्हें खाने में क्या पसंद है?
लड़कियों ने जवाब लिखे हैं और नीरसता से अपनी-अपनी कॉपी टीचर के सपुर्द कर रही हैं। चलो एक –एक करके देखें लड़कियों ने क्या-क्या जवाब लिखे हैं? यह क्या ?
सभी लड़कियों ने एक ही जवाब लिखा है !
तुम्हें खाने मे क्या पसंद है?
खोमचा ...............!!
।। सीन कट।।
हम सब चकित थे कि सभी लड़कियों का एक जैसा जवाब कैसे हो सकता है? लड़कियों की पसंद इतनी यूनिफ़ोर्मिक कैसे हो सकती है? मुझे खाने में दरअसल क्या पसंद है यह बात अभिव्यक्त होकर बाहर आने में क्या रुकावट है? लड़कियो की होम वर्क की कॉपी देखने से सब पता चल गया। सभी लड़कियो के जवाब एक जैसे थे, गाइड बुक से नकल किए हुए। लड़कियों की लिखित अभिव्यक्ति पाठ्य पुस्तक से इस कदर बंधी हुई थी कि उनका यह (अंध)विश्वास इतना प्रबल था कि सारे समाधान पुस्तक में ही होते हैं। उन्होने भी समाधान पूर्वक अनुच्छेद में से ही “खोमचा” शब्द तलाश कर रख दिया। भले ही उन्हे खोमचा शब्द का मतलब पता न था।
लड़कियों की अभिव्यक्ति को सहज रूप से खोला जा सके इसके लिए एक सशक्त विधा की जरूरत महसूस की जा रही थी। वह भी एक ऐसे माहौल में जहां बंधे बंधाए लेखन के फ़ारमैट पर काम करने की प्रैक्टिस है। प्रथना पत्र, प्रतिज्ञा, वंदना, श्लोक गणितीय सूत्र और भी तथाकथित ज्ञान टीएलएम स्वरूप दीवारों पर पुतवा दिया गया हो। “संधान[2] पिछले तीन सालों से टोंक और उदयपुर के केजीबीवी में न्यूज़लेटर पर काम कर रहा था। शुरू मे विचार यह था कि सबसे पहले लड़कियों को यह एक्सपोजर हो कि दूसरी जगह कि लड़कियां किस तरह से सोच और लिख रही हैं। टोंक उदयपुर की लड़कियों ने जितने न्यूज़ लेटर निकाले थे सभी की रंगीन फोटो कॉपी करके दी गई। ये न्यूज़ लेटर लड़कियों के हाथ में जाते ही करिश्मा हो गया। लड़कियों ने इसका जबर्दस्त इस्तक़बाल किया। खुद पढ़ा, दूसरों को पढ़कर सुनाया, सराहा और फिर पढे हुए के बारे में अपने विचार लिखे, प्रतिक्रियाएँ लिखी। इसके अलावा अपनी मौलिक कविताएं, कहानियाँ लेख व अनुभव लिखे। खूबसूरत चित्र बनाए उनमें रंग भरे और सब हमे सपुर्द किए – “हमारी भी बातचीत निकले।” मानो सृजनशीलता का बांध टूट गया।
यह सब आशातीत था। अब हमारे सामने एक सवाल था कि टीएलएम किसे कहेंगे? क्या दीवारों पर ऊंचाई में टंगे फ्रेम टीएलएम है? दीवारों पर लिखी इबारतें टीएलएम है? या बाज़ार में बिकते महंगे समान टीएलएम है। न्यूज़ लेटर की गतिविधि ने टीएलएम को नए अर्थ प्रदान किए। टीएलएम वही है जो अंतत: सीखने को बढ़ाए, वह भी खुशनुमा माहौल में रटने की पकी हुई आदतों को तोड़ दे। काफी हद तक न्यूज़ लेटर ने धसी हुई आदतों को तोड़ा है। जो लड़कियां पत्र के नाम पर अकसर बीमार पड़ने व जरूरी काम के लिए छुट्टी की अर्ज़ी बंधे बंधाए फ़ारमैट में लिखती थी। वही लड़कियां कुछ जुदा अंदाज में अब लिखती हैं। “बातचीत” में छपे इस पत्र की बानगी देखने के साथ ही हैप्पी एंडिंग करते हैं।
पत्र केजीबीवी तबीजी के नाम
प्रिय सहेलियों,
आप सब कैसी हो? बहुत दिन हुए आपसे मिले हुए। सर्व प्रथम आपने जो हमारे रहने खाने की व्यवस्था की थी उसके लिए धन्यवाद। वहाँ सभी केजीबीवी की लड़कियों को एक साथ खेल के मैदान में देखकर बहुत खुशी हुई। हमने सच्चे मन और खेल की भावना से आपके साथ और आपने हमारे साथ खेला। खेल में लड़ाई तो हो ही जाती है। हम भी लड़े और एक भी हो गए। हमारे स्कूल में खेल का मैदान नहीं है, इस कारण जब कभी आप लोग खेलने के लिए आते हो तो तुम्हें दूर ले जाना पड़ता है। इससे तुम्हें व हमे बहुत समस्या होती है। इसके लिए खेद है। खेल प्रतियोगिता में आपके व हमारे विद्यालय ने बराबर अंक आने पर जो समूहिक शील्ड जीती थी, उसे 15 मई को छ: महीने पूरे हो जाएंगे। हम चाहते हैं कि वह शील्ड अब हम रखें। आपके उत्तर की प्रतीक्षा में।
केजीबीवी श्रीनगर, अजमेर से आपकी सहेलियाँ

[1] कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय (KGBV) – केजीबीवी वह विद्यालय हैं जहां समाज के वंचित तबके की लड़कियाँ आवासीय रूप से रह कर कक्षा 6 से 8 तक की पढ़ाई करती हैं। यहाँ इन्हें सभी सुविधाएं निशुल्क मिलती हैं। इनमें वो लड़कियां होती हैं जो या तो कभी स्कूल में दाखिल ही नहीं हुई थी या फिर खभी किसी स्कूल में दाखिला तो लिया लेकिन एक दो कक्षा के बाद ड्रॉप आउट हो गई। इनमें ज़्यादातर लड़कियां पढ़ने लिखने की बुनियादी सक्षताओं पर भी नहीं होती हैं।
[2] संधान – संधान – Society for Study of Education and Development
(कृपया अपनी टिप्पणी अवश्य दें। यदि यह लेख आपको पसंद आया हो तो शेयर ज़रूर करें।  इससे इन्टरनेट पर हिन्दी को बढ़ावा मिलेगा तथा  मेरे  लेखन को प्रोत्साहन मिलेगा। ) 

दलीप वैरागी 
09928986983 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...